-->
बाराबंकी : अवध कल्चरल सोसायटी द्वारा एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन

बाराबंकी : अवध कल्चरल सोसायटी द्वारा एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन

ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

बाराबंकी। कौमी कौंसिल उर्दू ज़बान नई दिल्ली से अवध कल्चरल सोसायटी के जेहरे ऐहतिमाम एक रोज़ सेमिनार व उन्वान उर्दू और अंग्रेज़ी अदबियत का रमज शानास उसलूब अहमद अंसारी स्थान सुमित्रा लॉज मे सफलता पूर्वक संपन्न हुआ। सेमिनार की अध्यक्षता एसo एमo हैदर एवं हाजी नसीर अंसारी संचालन इसरार वारसी ने की सेमिनार के मुख्य अतिथि पीo एलo पुनिया जी ने अपने संबोधन में कहा कि उसलूब अंसारी का नाम जब तक तनकीदी अदब है जिन्दा रहेगे वे भारत के बड़े तनकीद निगारो निगारो मे शुमार किए जाते है ऐसे कार्यक्रम मानव एकता को एक सूत्र मे पिरोने मे सहायक होते है विभिन्न जिलों से आए हुए अरिबों ने अपने विचार रखे शकील गयावी ने कहा कि उसलूब अंसारी एक बड़े तनकीद निसार थे उन्होंने 37 पुस्तक लिखी जिनमें इक़बाल और ग़ालिब पर आलोचनात्मक बाते सहित के इतिहास मे याद रखी जाएगी सेमिनार की अध्यक्षता एसo एमo हैदर नई नस्तको डॉ उसलूब अहमद अंसारी के फन्नी मेयार से वाकफियत की जरूरत है संचालन कर रहे इसरार वारसी ने कहा प्रोफ़ेसर उसलूब अहमद अंसारी मुल्क के अजीम दानिश्वर और नक्कार और मुफक्किर थे अग्रेजी ज़बानों अदब और उर्दू के अजीम दानिश्वर थे आपको बयक्कत वक्त अग्रेजी और उर्दू ज़बान के माहिर और बड़े स्कालर थे इस अवसर पर सोसायटी के अध्यक्ष मोo इरफान, रिजवान फारुकी लखनवी, डॉ हारून रसीद लखनवी मो0 गुलफाम शकील गयावी, मोलाना असरार वारसी, हाजी नसीर अंसारी, शादाब सरल बहरायची, मुजीब रुदौलवी दर्द जिक्रयावी, नफीस बाराबंकवी शम्स जिक्रयावी, तालिब आलापुरी, ज़ाहिद बाराबंकवी, कारी अजीम, मोंo हसन मामू मो0 शमीम पन्ने, मो0 इमरान, शबनम वारिश, अतीक अहमद सद्दन, सना मुही, अली अब्बास, इसरारलहक अंसारी, तस्लीमन खान, शिब्बू, अख्तर वारिस, रसीद अंसारी, मो0 निहाल मो0 इफ्तिखार, आलम अंसारी, मोंo इरफान अहमद, आदि तमाम लोग उपस्थित रहे कार्यक्रम के अंत मे संस्था अध्यक्ष मो0 इरफान ने सभी को आभार व्यक्त किया।

0 Response to "बाराबंकी : अवध कल्चरल सोसायटी द्वारा एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4