-->
 ब्लाक अधिकारी नहीं देते योजनाओं को तवज्जों, कैसे होगा गांवों का विकास

ब्लाक अधिकारी नहीं देते योजनाओं को तवज्जों, कैसे होगा गांवों का विकास

   ब्यूरो चीफ़ अंकुल गिरी

 पलियाकलां- खीरी। सरकारी योजनाओं का लाभ और सुविधा ग्रामीणों तक नहीं पहुंच पा रही है अधिकारी ही प्रधान मंत्री और मुख्यमंत्री की योजनाओं को पलीता लगा रहे हैं। आपको बता दें कि दूर दराज से समस्याओं को लेकर आने वाले ग्रामीणों को पलिया ब्लाक के चक्कर लगाते हुए मायूस होकर लौटना पड़ रहा है इसका सबसे बड़ा कारण ब्लाक में बैठे वह अधिकारी है जिनके ऊपर न जाने किसका हाथ है जो इतने पुराने हो  जाने के बाद भी जांच पड़ताल और कार्रवाई नहीं की जाती और  सरकार में बैठे उच्च अधिकारी  इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। जबकि गांवों के लोगों ने भी अपनी-अपनी  प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जब ब्लाक में बैठे अधिकारी पुराने हो जाते हैं तो वह अपने मुख्य कामों से भटक कर दलालों और ठेकेदारों के सहयोग में काम करने लग जाते हैं फिर उनको न तो परेशान भटक रहे उस फरियादी की फरियाद दिखाई देती है और न ही उनका कोई काम किया जाता है। जबकि पीड़ित मुख्यालय का चक्कर लगाते-लगाते थक जाते हैं, वजह यही है कि केंद्र व राज्य सरकार की कहीं ना कहीं योजनाओं का काम न करके छवि को धूमिल किया जा रहा है विकास खंड पलिया में जिस तरह से तमाम योजनाओं में घोटाले और पात्र अपात्र में भेदभाव किया जा रहा है उससे लोगों में काफी आक्रोश है बताया जाता है कि कई ग्राम सभाओं में लोग आज भी योजनाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं जिसका उदाहरण कृष्णा नगर में पास हुई सड़क है जो दो साल बीत जाने के बाद भी कार्य शुरू नहीं किया गया है वही जमीनी हकीकत पर प्रधान व ग्राम पंचायत सेक्रेटरी से इस विषय पर जानकारी ली जाती है तो  तवज्जो न देकर पल्ला झाड़ लेते हैं जिससे लोगों में सरकार के प्रति आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है बताया जाता है कि कृष्णा नगर की सालों से दर्जनों गली नुकड़ सड़के योजनाओं के तहत बनवाया जाना था। लेकिन भ्रष्टाचारी और खाऊ कमाऊ व घोटाले की नियत से दो साल बीत जाने के बाद भी कार्य को नहीं कराया गया है जबकि ग्रामीणों ने इस विषय पर उच्च अधिकारियों को लिखित पत्र देते हुए शिकायत की है लेकिन महीनों बीत जाने के बाद भी ना तो अधिकारियों के कानों में जूं रेंग रही है और नाही मौजूदा हालात को अधिकारी देखने आते हैं। सबसे बड़ा सवाल यह भी उठता है कि जबसे पलिया ब्लॉक में खंड विकास अधिकारी की तैनाती की गई है तब से सरकार की योजनाओं को खासा तवज्जो नहीं दिया गया है जिससे लोगों को सरकार की योजनाओं से वंचित रहना पड़ रहा है। वहीं पात्रों की जगह अपात्रों को योजना का लाभ दिया जा रहा है। जिले स्तर के किसी अधिकारी से मामले की जांच कराई जाए तो बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार का खेल उजागर हो सकता है। जबकि पात्र ब्लाक का चक्कर लगाते-लगाते थक गए, लेकिन उन्हें योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। सीतादेवी का आरोप है कि वे कई बार पलिया ब्लॉक गईं, लेकिन खंड विकास अधिकारी नहीं मिलते है।

0 Response to " ब्लाक अधिकारी नहीं देते योजनाओं को तवज्जों, कैसे होगा गांवों का विकास"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4