-->
अन्नदाता किसान की आवाज़ को सरकार अनसुना नहीं कर सकती, काले कानून वापस लेने ही होंगे : ललन कुमार

अन्नदाता किसान की आवाज़ को सरकार अनसुना नहीं कर सकती, काले कानून वापस लेने ही होंगे : ललन कुमार

 

सत्य स्वरूप संवाददाता

लखनऊ। उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के मीडिया संयोजक ललन कुमार ने काँग्रेस के संगठन सृजन अभियान के तहत #बक्शी_का_तालाब (169) विधानसभा के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा किया जिसमें इटौंजा, बेलही, कुम्हरावां, बीकेटी, रुदही इत्यादि शामिल हैं।

ग्राम बेलही में पहुँचकर ललन कुमार ने किसानों से बात की। नए किसान कानूनों को लेकर किसानों में गुस्सा है। दिल्ली सीमा पर किसानों से हो रहे अत्याचार से वह नाराज़ हैं।  किसानों से ललन कुमार ने कहा कि : “किसान अन्नदाता हैं। यह तानाशाह सरकार उन्हें अनसुना नहीं कर सकती। सरकार को काले कानून वापस लेने ही होंगे।“

नगर पंचायत बीकेटी में पूर्व प्रधानमंत्री स्व० श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के स्मृति में संचालित अटल आश्रम के न्यासी डॉ० शिवतेज त्रिपाठी जी एवं संचालिका इंजी० ऋचा शर्मा जी से मुलाकात कर ललन कुमार ने नववर्ष की डायरी भेंट की। उनकी प्रशंसा करते हुए उनके द्वारा परमार्थ सेवार्थ धर्मार्थ कार्यों में सहयोग देने का आश्वासन दिया। वहाँ चल रहे हेल्थ चेकअप कैंप का दौरा कर लोगों से मुलाक़ात कर ललन कुमार ने कहा : “लोगों की सेवा करना पूजा के सामान है। आप एक महान कार्य कर रहे हैं।

इटौंजा निवासी श्री अजय रस्तोगी जी की माता श्रीमती शकुन्तला देवी जी फालिज़ अटैक से पीड़ित हैं। ललन कुमार ने उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान कर शीघ्र ठीक होने प्रार्थना की।

इटौंजा के अवस्थी टोला में श्रीमती रीमा शर्मा जी से ललन कुमार ने मुलाक़ात की। रीमा शर्मा जी दिव्यांग हैं एवं उनकी 4 बेटियाँ हैं। उनके पति राकेश शर्मा जी का कुछ दिन पूर्व देहांत हुआ है। उनकी आर्थिक परिस्थितियाँ ठीक न होने के कारण उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान की गयी। स्व० श्री राकेश शर्मा जी के पिता स्व० श्री राम नारायण शर्मा जी स्वतंत्रता सेनानी थे।

इटौंजा में प्राचीन देवेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन करने के उपरान्त संरक्षक रामसनेही मिश्रा से ललन कुमार ने मुलाक़ात की। प्राचीन मंदिर के सौन्दर्यीकरण का आश्वासन देते हुए ललन कुमार ने कहा कि : “देवस्थान आस्था का केंद्र है। इसका स्वच्छ और सुरक्षित रहना महत्वपूर्ण है।“

0 Response to "अन्नदाता किसान की आवाज़ को सरकार अनसुना नहीं कर सकती, काले कानून वापस लेने ही होंगे : ललन कुमार"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4