Subscribe Us

हैदरगढ़ पुलिस ने पवन हत्याकाण्ड का खुलासा कर पत्नी सहित प्रेमी को किया गिरफ्तार

अपराध संवाददाता

बरबबकी। हैदरगढ़ पुलिस को सूचना मिली कि असन्द्रा नाले में एक शव पड़ा है। मौके पर पुलिस बल पंहुचा तो देखा कि एक मोटरसाइकिल टीकाराम बाबा घाट के पास थाना हैदरगढ़ क्षेत्र में खड़ी है तथा नाले में शव पड़ा है। शव की शिनाख्त पवन कुमार पुत्र स्व0 दानबहादुर निवासी ताला रूकनूद्दीनपुर थाना सुबेहा के रूप में हुई। जिसके उपरान्त मतृक के भाई लवलेश बहादुर सिंह पुत्र स्व0 दानबहादुर सिंह की तहरीर के आधार हत्या का मुकदमा थाना हैदरगढ़ पर पंजीकृत किया गया। 

अपराधियों की धरपकड़ के लिए क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ पवन गौतम के पर्यवेक्षण में 2 टीमों का गठन किया गया प्रथम टीम स्वाट सर्विलांस को सर्विलांस के अनालिसिस हेतु एवं मैनुअल इंटेलीजेंस के आधार पर द्वितीय टीम में प्रभारी निरीक्षक धर्मेन्द्र सिंह रघुवंशी थाना हैदरगढ़ को लगाया गया। थाना हैदरगढ़ पुलिस टीम द्वारा अथक प्रयास करते हुए विभिन्न साक्ष्यों के आधार पर घटना का सफल खुलासा करते हुए घटना में संलिप्त 2 अभियुक्तों अजय प्रताप सिंह उर्फ बबलू सिंह को टीकाराम मन्दिर के पास व पवन की पत्नी को ग्राम अलमापुर से  गिरफ्तार किया।

   अभियुक्त अजय प्रताप सिंह उर्फ बबलू सिंह ने पूंछताछ पर घटना के सम्बन्ध में बताया कि मैने अपनी बहन के जेठानी की लड़की जिससे मेरा अवैध सम्बन्ध था की शादी वर्ष 2012 में अपने ही गांव के पवन कुमार से कराया था इस शादी के कुछ दिन बाद ही पवन के घर में बटवारा हो गया। घर में बंटवारा हो जाने के कारण पैसे की परेशानी होने पर पवन ड्राइवरी करने लगा। मैने उस लड़की को सोने की झूमकी व झाला दिया था जिसे पवन ने ले जाकर गिरवी रख दिया और पैसा शराब पीने में खर्च दिया, जिससे मुझे बहुत गुस्सा आया और मैने बहन की जेठानी की लड़की से कहा कि मैं इसे मार डालूंगा। मैने एक प्लान यह भी बनाया कि इसे दुबई भेज देते है और कलीम निवासी भेलसर जनपद अयोध्या से सम्पर्क करके पवन कुमार का फोटो व कागजात कुल 70000 रूपया दिया था। लेकिन लॉकडाउन होने से पासपोर्ट व वीजा नहीं बन सका तब मैने पवन को मारने का प्लान बनाया और घटना के एक दिन पहले पवन से कहा कि बहुत अच्छी शराब लाया हूँ तुमको कल पिलाउगा लेकिन शर्त ये रहेगी कि तुम अपनी पत्नी से बताना कि मै प्रधान दीपू के साथ दावत में जा रहा हूँ। प्लान के अनुसार पवन करीब 9 बजे मेरे यहां पंहुचा हम लोग टीकाराम बाबा के पास वाले नदी वाले तिराहे पर गये। मैने पवन को पहले 2 बोतल देशी शराब पिलाया और जब पवन काफी नशे में हो गया तो तीसरा बोतल स्वयं जबरदस्ती खोलकर पिला दिया जिससे पवन अचेत हो गया तब मैने धक्का देकर गिरा दिया और मरणासन्न अवस्था में ले जाकर पवन को गोमती नदी में फेंक दिया। पवन के घर वाले जब उसे खोज रहे थे तो मै भी सबके साथ खोजता रहा ताकि कोई मेरे ऊपर शक न कर सके।

 पुलिस टीम को मुखबिर की सूचना से बबलू सिंह व पवन की पत्नी के बीच अवैध सम्बन्ध की बात प्रकाश में आयी जिसके आधार पर जांच व पूछताछ से अभियुक्त बबलू सिंह द्वारा उपरोक्त घटना कारित करना स्वीकार किया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ