-->

ad

किसान आंदोलन जन आंदोलन का रूप ले चुका है सरकार अपनी जिद से उसे जमींदोज करने पर उतारू है - तनुज पुनिया

किसान आंदोलन जन आंदोलन का रूप ले चुका है सरकार अपनी जिद से उसे जमींदोज करने पर उतारू है - तनुज पुनिया

ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

बाराबंकी। देश की मोदी सरकार को यह एहसास नही है कि कृृषि समूची मानव सभ्यता एवं मानव जाति की जनक पालक, संरक्षक है खेती के साथ सरकार का खिलवाड अन्यायपूर्ण ही नही अपमानजनक कदम है सत्ता के मद में चूर देश की मोदी सरकार पूरी तरह निरंकुश होकर तानाशाही करके काले कृृषि कानून लागू करने पर अमादा हैै। आज जो किसान आन्दोलन जन आन्दोलन का रूप ले चुका है सरकार अपनी जिद से उसे जमींदोज करने पर उतारू है क्योकि किसान की आमदनी दोगुनी होन का सपना भाजपा राज मे पूरा होने वाला नही है सरकार का यह एजेन्डा महज झुनझुना साबित हुआ है और सरकार द्वारा बनाये गये  तीन कृृषि के काले कानूनो से किसानो का भला होने वाला नही है क्योकि यह कानून किसान के लिये नही प्रधानमंत्री मोदी के पूंजीपति मित्रो के लिये बनाये गये है।

उक्त उद््गार उत्तर प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के मध्यजोन के कार्यवाहक अध्यक्ष तनुज पुनिया ने आज जय जवान जय किसान कार्यक्रम के तहत विकास खण्ड रामनगर के ग्राम तेलवारी तथा विकासखण्ड सिरौलीगौसपुर के ग्राम मरौचा में आयोजित किसान चैपाल में व्यक्त किये  जिसकी अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन एवं संचालन दुर्गेश दीक्षित ने किया विशिष्ट अतिथि के रूप में ग्राम तेलवारी की किसान चैपाल में पूर्व विधायक राजलक्ष्मी वर्मा मौजूद थी।

मध्यजोन के अध्यक्ष तनुज पुनिया ने कहा कि जब से देश में भाजपा की मोदी सरकार आयी है तब से देश की आवाम को सिर्फ लच्छेदार भाषणो तथा जुमलो से गुमराह किया गया है न देश से बेरोजगारी दूर हुयी है न महंगाई, न भष्टाचार और न ही विदेशो में जमा कालाधन ही वापस आया ऐसे में देश की जनता का विश्वास मोदी सरकार से उठ गया है। आज लगभग तीन माह से जो  मोदी सरकार ने कृृषि के काले कानून बनाये है उनकी वापसी की मांग को लेकर देश का अन्नदाता आन्दोलनरत है उनका समाधान कृृषि कानून को वापस लेकर सरकार नही कर रही  है अपितु देश के करोडो किसानो मे भ्रम फैलाकर आन्दोलित किसानो को सिर्फ आश्वासन देकर आन्दोलन खत्म कराने की साजिश कर रही है लेकिन सरकार की मंशा किसान समझ चुका है और उसने जब तक काले कानून वापस नही हो जाते सरकार से लड ने का मूड बनाया है जिसमे आखरी जीत किसान की होगी।

कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन ने किसान चैपाल को सम्बोधित करते हुये  कहा कि सत्ता के नशे मे चूर सरकार को किसान आन्दोलन की हकीकत तथा जनाक्रोश का एहसास नही है देश की भाजपा सरकार ने अगर इन तीन काले कानूनो को वापस नही लिया तो उसे इसकी कीमत अपनी सत्ता गवां कर चुकानी पडेगी क्योकि यह आन्दोलन अब किसान के आनबान, शान और उसकी हकीकत की जरूरत का आन्दोलन  बन चुका है जिसमे सैकडो किसान भाजपा सरकार की हठ धर्मिता के चलते शहीद हो चुके है।

0 Response to "किसान आंदोलन जन आंदोलन का रूप ले चुका है सरकार अपनी जिद से उसे जमींदोज करने पर उतारू है - तनुज पुनिया"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4