Subscribe Us

वतन की राह में कुर्वान होने बालो को याद करना देश की बफादारी का हिस्सा है : अनवर पठान

 


नवाब तफ़ज़्जुल हुसैन ख़ाँ बंगश की बरसी पर जुटे लोग

फर्रूखाबाद। फर्रुखाबाद के आखरी शासक व महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नवाब तफ़ज़्जुल हुसैन ख़ाँ बंगश की 139 वीं बरसी पर खिराजे अक़ीदत पेश करने के लिये सेमिनार का हुआ आयोजन,किया गया।

शहर के थाना मऊदरवाजा स्थित बारहदरी पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नवाब तफ़ज़्जुल हुसैन ख़ाँ बंगश की 139 वीं बरसी गौरव सेवा दिवस के रूप में मनाई गई ।जिसकी अध्यक्षता नवाब मोहम्मद ख़ाँ बंगश वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष नवाब काजिम हुसैन ने की। उन्होंने कहा उनका उनकी संस्था का मकसद लोगो को अपनी धरोहर से जोड़े रखना है औऱ इतिहास को लोगो तक पहुँचाना है।

इस मौके पर अखिल भारतीय शाक्य महासभा जिलाध्यक्ष इंजीनियर नीरज प्रताप शाक्य ने कहा कि भारत का गौरव शाली इतिहास गंगा जमुनी तहजीब से भरा है। इस वतन को नवाब तफ़ज़्जुल हुसैन जैसे महापुरुषों ने अपने लहुँ से सींचा है।उनकी याद मनाना हमारे लिए जरूरी है। 

वरिष्ठ पत्रकार व नव भारत सेवा फाउंडेशन के अध्यक्ष अनवर पठान ने कहा वतन की राह में कुर्वान होने बालो को याद करना देश की बफादारी का हिस्सा है,जरूरत इस बात की हम ऐसे कार्यक्रम आयोजित करें जिससे लोग जागरूक हो और अपने इतिहास को जान सकें।

संस्था के उपाध्यक्ष अनीस अहमद ख़ाँ ऐडबोकेट ने नवाब तफ़ज़्जुल हुसैन ख़ाँ की बरसी पर तिरंगा हाथ मे लेकर प्रभात फेरी निकालने की बात कही।यशभारती डॉक्टर रामकृष्ण राजपूत ने जंगे आज़ादी में नवाबो के योगदान पर नज़र डाली। शहर के उधोगपति व कार्यक्रम के मुख्यातिथि हाजी अहमद अंसारी ने मौजूदगी दर्ज कराई अपनी बात रखी।  संचालन हाजी डॉ अफ़ज़ल हुसैन ने किया ।जावेद हुसैन ख़ाँ बंगश  ने पूरे कार्यक्रम की व्यवस्था सँभाली। इस मौके पर,इसरार उर्फ कल्लू,कदीर,फसीह मास्टर ,देवी दयाल,बसपा नेता जहांगीर मंसूरी,आदि लोग मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ