-->

ad

किसान अपनी जान देकर भी आर पार की लड़ाई पिछले 85 दिनों से लड रहे हैं - राजलक्ष्मी वर्मा

किसान अपनी जान देकर भी आर पार की लड़ाई पिछले 85 दिनों से लड रहे हैं - राजलक्ष्मी वर्मा

 


ब्यूरो सगीर अमान उल्लाहM

बाराबंकी। मोदी सरकार काले कानूनो के सहारे शांता कुमार कमेटी की रिपोर्ट लागू करना चाहती है जिसमें एफ0सी0आई0 के माध्यम से समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद न करनी पडे। इससे सरकार को 80 हजार से एक लाख करोड की बचत हो और किसान को देना न पडे इसका प्रतिकूल प्रभाव खेत खलिहानो पर पडेगा। काले कानूनो के सहारे सरकार किसानो के ठेका प्रथा में फंसा कर उसे अपनी ही जमीन पर मजदूर बना देगी और ठेका प्रथा खेती की सबसे बडी कमी यही है कि उसमे समर्थन मूल्य देना जरूरी नही है। आज हम सभी कांग्रेसजन आपके बीच में किसान चैपाल करके यही बात समझाने आये है कि तीनो कृृषि कानून आपके साथ धोखा है।
उक्त उद्गार उत्तर प्रदेश कांग्रेस के सचिव जनपदीय प्रभारी प्रदीप कोरी ने जय जवान जय किसान कार्यक्रम के अन्र्तगत विकास खण्ड सूरतगंज के रायपुर में तथा महादेवा की न्याय पंचायत गोडा के ग्राम विझला में आयोजित किसान चैपाल मे व्यक्त किये जिसकी अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन तथा संचालन क्रमशः सुरेन्द्र वर्मा तथा सद््दाम हुसैन ने किया विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व विधायक राज लक्ष्मी वर्मा मौजूद थी।


पूर्व विधायक राजलक्ष्मी वर्माने किसान चैपाल को सम्बोधित करते हुये कहा कि देश की मोदी सरकार किसान विरोधी है इसने इस देश के अन्नदाता को अपने पूंजीपति मित्रो का बधुवा मजदूर बनाने की ठान ली है इनकी इस घृृणित मंशा को देश का किसान समझ गया है और विगत 85 दिनो से देश की राजधानी दिल्ली की सीमा बैठकर तीनो काले कानूनो की वापसी की मांग कर रहा है लेकिन इस देश के प्रधानमंत्री को किसानो का दर्द दिखाई नही पड रहा है।


कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन ने भाजपा सरकार को आडे हाथो में लेते हुये कहा कि इस देश का जवान और किसान हमारी शान है लेकिन भाजपा सरकार मे जवान किसान, नौजवान क्या समाज का कोई व्यक्ति सुरक्षित नही है मोदी सरकार अब किसानो के तकदीर से तीन काले कानून लाकर खेलने का काम कर रही है इन तीन काले कृषि कानूनो के सहारे सरकार कृृषि उपज मंडी व्यवस्था खत्म करके किसान को ठेका प्रथा में फंसाकर उसे न्यूनतम समर्थन मूल्य से बंचित करके अपने ही खेत में उसे बन्धुआ मजदूर बना देगी जिससे किसान कभी उबर नही पायेगा सरकार की इसी तानाशाही कि खिलाफ सैकडो किसान अपनी जान देकर भी आर-पार की लडाई पिछले 85 दिनो से लड रहे है आप इन कानूनो के दुष्परिणामो को और भाजपा सरकार की किसान विरोधी नियत को समझो किसान हित तथा देश हित में भाजपा सरकार का जाना बहुत जरूरी है।
ब्लाक कांग्रेस कमेटी की अगुवाई में आयोजित किसान चैपाल को मुख्यरूप से प्रदेश सचिव ज्ञानेश शुक्ला, श्रीमती गौरी यादव, सत्य प्रकाश वर्मा, नेकचन्द्र त्रिपाठी, आदर्श पटेल, विजय बहादुर वर्मा, मो0 अहमद पठानी, धनंजय सिंह, शिव सहारे, दिलावर अली, संतराम वर्मा, अकील अंसारी तथा भारतीय किसान यूनियन के संगठन मंत्री रामपाल ने सम्बोधित किया।

0 Response to "किसान अपनी जान देकर भी आर पार की लड़ाई पिछले 85 दिनों से लड रहे हैं - राजलक्ष्मी वर्मा"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4