-->
समय के दौराहे पर खड़े वर-वधु की कहानी ‘वाइफ ऑफ ए स्पाई’

समय के दौराहे पर खड़े वर-वधु की कहानी ‘वाइफ ऑफ ए स्पाई’


पीआईबी

दिल्ली। एक ऐसा घुमावदार भावनात्मक कहानी, जहाँ एक पत्नी पहले तो अपने पति के द्वारा किए गए किसी कृत्य के कारण ईर्ष्या से भरी होती है, लेकिन जब उसे सच्चाई का पता चलता है, तो वह अपने परिवार की सुरक्षा के लिए ऐसा अकल्पनीय काम करती है, जिसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 51वें संस्करण के अंतिम चरण में प्रदर्शित की गई निर्देशक कियोशी कुरोसावा की जापानी फिल्म ‘वाइफ ऑफ ए स्पाई’ एक ऐसे पति-पत्नी की कहानी है, जिनके रिश्तों में कुछ अप्रत्याशित परिस्थितियों की वजह से काफी खटास आ जाती है।
एक वीडियो संदेश के माध्यम से 51वें आईएफएफआई के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुरोसावा ने कहा कि, “यह मेरे लिए गर्व की बात है कि वाइफ ऑफ ए स्पाई को आईएफएफआई की समापन फिल्म के रूप में चुना गया। मैं गोवा में 6-7 साल पहले आया था। यह वास्तव में मेरे लिए एक अद्भुत स्मृति है। यहाँ सब कुछ काफी अच्छा है, यहां का समुद्र, शहर और यहाँ के अत्यंत दयालु लोग। विशेषरूप से यहाँ का खाना काफी स्वादिष्ट था। मैंने यहाँ जितने भी दिन गुजारे, वह किसी सपने के पूरे होने जैसा है। मैं व्यक्तिगत रूप से आप लोगों से मिलने के लिए आना चाहता था, लेकिन मैं जानता हूं कि य असंभव है। मैं जापान में बैठकर ऑनलाइन माध्यम से आप लोगों से बातचीत कर सकता हूं। ये फिल्म विभिन्न देशों की सीमाओं को पार भारत में पहुंच गई है, मेरा मानना है कि मैं इसके बारे में जितना बोल रहा हूं, उससे कहीं ज़्यादा यह फिल्म ख़ुद आपको बताएगी। मेरी फिल्म की शुरुआत 1940 के दशक के जापान में होती, और यह फिल्म एक ऐसे दम्पति को दिखाती है, जो विपरीत परिस्थितियों से गुजर रहे हैं। अपनी बात ख़त्म करते समय कुरोसावा ने सभी से अनुरोध किया कि वे फिल्म का अंत तक आनंद उठाएँ।”
वाइफ ऑफ ए स्पाई एक ड्रामा फिल्म है, जो जापानी अभिनेत्री यू अयोई द्वारा निभाए गए किरदार सातोको और इस्सी ताकाहाशी द्वारा निभाए गए किरदार युसाकु फुकुहारा की कहानी बताती है।द्वितीय विश्व युद्ध के शुरू होने से ठीक पहले वाली को एक स्थानीय व्यापारीयुसाकु फुकुहारा को आभास हो जाता है कि परिस्थितियां विपरीत दिशा में जा रही हैं। वह अपनी पत्नी सातोको को छोड़कर मंचुरिया की यात्रा पर निकल जाता है। वहां संयोग से उसका सामना एक असभ्य गतिविधि से होता है, जिसे वह सबके सामना लाना चाहता है। वह तुरंत हरकत में आता है।इस बीच, सातोको को उसके बचपन का दोस्त और सैन्य पुलिसकर्मीताईजी त्सुमोरी मिलने के लिए बुलाता है। वह उसे बताता है कि उसका पति जिस महिला को मंचुरिया से लाया था, उसकी मृत्यु हो गई है।सातोको ईर्ष्या से भर जाती है और युसाकु को भला-बुरा कहती है। लेकिन जब उसे युसाकु के इरादे के बारे में पता चलता है, तब वह उनकी सुरक्षा और खुशी सुनिश्चित करने के लिए अकल्पनीय काम करती है।

115 मिनट लंबी इस फिल्म का चयन 77वें वेनिस अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव की मुख्य प्रतिस्पर्धा श्रेणी के लिए किया गया था, जहाँ इसे सिल्वर लॉइन अवार्ड मिला था।
कियोशी कुरोसावा एक जापानी फिल्म निर्देशक, स्क्रीनराइटर, फिल्म आलोचक और टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ आर्ट्स में प्रोफेसर हैं। उन्होंने विभिन्न विधाओं में काम किया है, और उन्हें विशेष रूप से जापान में बनने वाली हॉरर फिल्मों में उनके योगदान के लिए जाना जाता है।

0 Response to "समय के दौराहे पर खड़े वर-वधु की कहानी ‘वाइफ ऑफ ए स्पाई’"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4