-->

ad

नए कृषि कानून से कॉरपोरेट खेती को मिलेगी छूट : पी एल पुनिया

नए कृषि कानून से कॉरपोरेट खेती को मिलेगी छूट : पी एल पुनिया

ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

बाराबंकी। मोदी सरकार को किसान की पीडा का एहसास नही है, 20 से ज्यादा किसान आन्दोलन में अपनी जान गवां बैठे है। देश के तथाकथित चैकीदार को चाहिये कि देश के अन्नदाता की खुशहाली के लिये अहनकर त्याग करके तत्काल तीनो नए कृषि कानून वापस ले और किसान को उसकी पीडा से निजात दिलाये।

उक्त उद्गार अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता पूर्व राज्यसभा सदस्य डा0 पी0एल0 पुनिया ने आज विकास खण्ड हरख के गांव धौरहरा में विजय कुमार वर्मा द्वारा आयोजित चैपाल में व्यक्त किया जिसकी अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन तथा संचालन उपाध्यक्ष सरजू शर्मा ने किया।

राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री पुनिया ने कहा कि किसान उपज व्यापार एवं वाणिज्य संवर्धन एवं सुविधा विधेयक, किसान मूल्य आश्वासन अनुबन्ध एवं कृृषि सेवाये आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक को लेकर आयी है इन कानूनो के माध्यम से भाजपा सरकार किसानो को खेत मालिक की जगह मजदूर बनाना चाह रही है। इन काले कानूनो के सहारे मोदी ने बडे कारपोरेटरो द्वारा किसानो की उपज को सराकरी मंडियो में मनमाने ढंग से खरीदने का अधिकार दे दिया है, ठेका खेती कारपोरेट खेती की छूट दे दी गयी है तथा आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक बनाकर अनाज, दलहन, खाद्य तेल, आलू प्याज आदि को आवश्यक वस्तु कानून से बाहर करके कारपोरेटो को असीमित भण्डारण का अधिकार देने से किसन की उपज का दाम तय करने मे किसानो एवं मंडी समितियो की भूमिका समाप्त हो जायेगी, खाद्य सामग्री के मूल्य एवं हर व्यक्ति को इसकी आपूर्ति का सरकारी दायित्व समाप्त हो जायेगा। जिससे फसल के समय कारपोरेट दबाव बनाकर सस्ते में खरीदने और फिर मनमाने दाम पर बेचेगे ऐसा करके मोदी सरकार काला बाजारी की खुली छूट दे रही है। अभी तक जो आपको फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिल रहा है वह भी समाप्त हो जायेगा क्योकि इसकी कोई चर्चा इन कानूनो में नही है। ये नये कृृषि कानून किसानो की तबाही, देश की खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालने, कृृषि क्षेत्र में कारपोरेटी लूट, देश में बेरोजगारी बढाने के कानून है। देश के अन्नदाता के हित में सरकार को हठ छोडकर तत्काल इन काले कानूनो के वापस लेना चाहिये ग्राम धौरहरा मे आयोजित चैपाल को सम्बोधित करते हुये मध्य जोन के अनुसूचित जाति विभाग के कार्यवाहक अध्यक्ष तनुज पुनिया ने कहा कि मोदी योगी सरकार अहंकार में डूबी हुयी एक ऐसी सरकार है जिसे गांव, किसान, नौजवान से कोई सरोकार नही है। विकास, बेरोजगारी, बिगडती कानून व्यवस्था पर सरकार का ध्यान नही है सम्पूर्ण प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नही है। अन्नदाता अपनी फसल औने पौने दाम पर बेचने को मजबूर है, बहु - बेटियां सुरक्षित नही है। आवाम की पीडा कोई सुनने वाला नही है, सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में जनता की पीडा और सरकार की ज्यादती के खिलाफ कांग्रेस पार्टी मजबूती के साथ खडे होकर अपना विरोध दर्ज करा रही है और जनता को यह अहसास कर रही है कि उत्तर प्रदेश की आवाम का भविष्य कांग्रेस के हाथो में ही सुरक्षित है।

कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन ने सफल बैठक आयोजित करने के लिये विजय कुमार को बधाई देते हुये कहा कि आज देश भर का किसान अपनी तबाही के फरमान को लेकर आन्दोलनरत है क्योकि मोदी सरकार द्वारा लाये गये तीनो कानून किसान विरोधी कानून है किसान भाजपा के ऐजेण्डे में किसान कभी रहा ही नही है भाजपा के मंत्री कभी किसान को खालिस्तानी, कभी पाकिस्तानी, कभी किसान को किसान मानने को तैयार नही है और कहते है कि आन्दोलनकारियो की वेशभूषा किसानो की नही है। यह सोच है भाजपा के प्रधानमंत्री तथा उनके मंत्रियो की क्या किसान पैन्ट, शर्ट, सदरी और जूते पहन नही सकता? जब एक चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री होकर लाखो रूपये का सूट पहन सकता है तो इस देश का अन्नदाता क्यो नही पहन सकता? इस देश का किसान अपनी बर्बादी की कहानी बनाने वाले भाजपा के अहंकारी नेतृृत्व को अपने वोट से जवाब देकर उन्हे अर्श से फर्श पर लाने का काम करेगा।

विकास खण्ड हरख के धौरहरा में आयोजित कांग्रेस पार्टी की चैपाल को मुख्यरूप से कांग्रेस उपाध्यक्ष सरजू शर्मा, उपाध्यक्ष सुरेश चन्द्र वर्मा, महासचिव के0सी0 श्रीवास्तव, सचिव अजित वर्मा, ने सम्बोधित किया, बैठक में मुख्यरूप से शैलेन्द्र वर्मा, अनिल गोस्वामी, राम मिलन, अरविन्द वर्मा, अशोक वर्मा, हंसराज वर्मा, नागेन्द्र वर्मा, अमर सिंह वर्मा, नानक शरण वर्मा, शम्भू नाथ, कालीचरन, चन्द्रशेखर वर्मा, सुशील कुमार, संतोष कुमार, राम सागर रावत, सहित सैकडो की संख्या में स्थानीय आवाम मौजूद थी। चैपाल के अन्त में विकास खण्ड हरख के कांग्रेस अध्यक्ष पुत्तू लाल वर्मा ने सभी का आभार व्यक्त किया।

0 Response to "नए कृषि कानून से कॉरपोरेट खेती को मिलेगी छूट : पी एल पुनिया"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4