-->
अपनी मांगों को लेकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को दिया ज्ञापन

अपनी मांगों को लेकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को दिया ज्ञापन


    ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

   बाराबंकी। डा0 अम्बेडर राष्ट्रीय अधिवक्ता मंच बाराबंकी एवं समता मूलक सामाजिक एकता संस्थान उ0प्र0 ने संयुक्त रूप से 14 सूत्रीय मांगो को लेकर जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक बाराबंकी को ज्ञापन पत्र सौंपा।

   समता मूलक सामाजिक संस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश चन्द्र गौतम एडवोकेट ने कहा कि जनपद बाराबंकी का शातिर हिन्ट्रीशीटर रंजीत बहादुर श्रीवास्तव द्वारा देश की सर्वमान्य नेता बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष उ0प्र0 की 4 बार मुख्यमंत्री रही बहन सुश्री मायावती जी के प्रति शर्मनाक, आपत्तिजनक, अभद्र टिप्पणी करने, भारत रत्न बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडर सहित अनु0 जाति समाज के साथ-साथ मुस्लिमों, महिलाओं, पिछडों को अपमानित करने के मामले में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं किया डी.एम.वा एस.पी. से शिकायत करके रिपोर्ट दर्ज करने की मांग की गयी थी। रंजीत बहादुर श्रीवास्तव ने हाथरस की बेटी की बलात्कार एवं हत्या पर भी घिनौना बयान देकर सर्वसमाज की बेटियों को अपमानित किया था। रंजीत बहादुर श्रीवास्तव ने वीडियों वायरल करके सामाजिक सौहार्द बिगाडने की बडी साजिश एवं अपराध किया है। जिससे सामाजिक सौहार्द बिगड़ सकता है। इसलिए रंजीत बहादुर श्रीवास्तव के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज करके गुण्डा ऐक्ट, गैंगस्टर, राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की कार्यवाही करके जेल भेजा जाये और अपराध के जरिये एवं नगर पालिका में भ्रष्टाचार करके अर्जित की गयी चल अचल सम्पत्ति जब्त की जावे।

   डा0 अम्बेडकर राष्ट्रीय अधिवक्ता मंच के जिला संयोजक आर0पी0 गौतम एडवोकेट ने कहा कि किसान देश का अन्नदाता है। किसानों की खुशहाली विकास को परिलक्षित करता है। लेकिन केन्द्र्र की सरकार ने किसानों को खुशहाल करने के बजाय उनकों बदहाल करने के लिए तीन काले कानून बनाये गये है। जिससे आने वाले दिनों में किसान मालिक के बजाय मजदूर बन जायेगे। पूंजीपतियों, बड़ी-बड़ी कम्पनियों के हवाले खेती हो जायेगी। देश की हालत ठैछस् की तरह से समाप्त करने पर उतारू है। बाराबंकी में किसान धान बिचैलियों की औने पौने दाम पर बेचने को मजबूर है। सरकारी केन्द्रों पर किसानों के धान की तौल नहीं हो रही है। किसान ट्रेक्टर-ट्राली से धान को लादकर प्रशासन के चक्कर लगाने को मजबूर है।

दलित बालकराम पुत्र नान्हूं निवासी बनौक, थाना सफदरगंज, बाराबंकी की पुलिस द्वारा रिपोर्ट दर्ज न करने, ग्राम पिपरी-थाना सतरिख में बालिका के हत्यारों पर

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, गैंगस्टर की कार्यवाही न होने, प्रशासन द्वारा 10 लाख रूपये की आर्थिक न दिलाने, ग्राम शहावपुर थाना मसौली में खण्डित की गयी बाबा साहब की प्रतिमा के मामले में कार्यवाही न होने, ग्राम उतरूवा, तहसील फतेहपुर की सुरक्षित खलिहान आदि की भूमि व सरकारी प्रसव केन्द्र में दबंगों का अवैध कब्जा न हटवाने, सुनील कुमार निवासी मुगलमाजरा थाना जहांगीराबाद के मामले में सामान्तों के विरूद्ध कार्यवाही न करने, ग्राम इचैलिया, थाना सफदरगंज विकासखण्ड मसौली में अनु0 जाति की बस्ती में सामान्तों द्वारा पानी निकास बन्द करवा दिया गया जिससे दलित बस्ती में पानी भर जाने से घरों में पानी घुस गया, लोगों का निकलना दूभर हो गया। जलभराव की निकासी, नाला निर्माण, पक्की रोड बनाने सहित 14 सूत्रीय ज्ञापन पत्र जिलाधिकारी/पुलिस अधीक्षक को देकर तत्काल कार्यवाही की मांग किया है। कार्यवाही न होने पर किसी भी दिन एस.डी.एम. व क्षेत्राधिकारी कार्यालय  घेराव व प्रदर्शन किया जायेगा।

   इस मौके पर प्रमुख रूप से सुरेश चन्द्र गौतम, इक्ष्वाक मौर्य, आर0पी0 गौतम एडवोकेट, आर0डी0राव, अजय गौतम, संतराम गौतम एड., अमित गौतम, सुमेर सिंह, मोहित सैनी, बी.एल. मौर्य, विवेकानन्द यादव, अनूप कल्याणी, मंशाराम चैधरी, कमलेश कुमार, नीरज वर्मा, आसिफ खान, के.के. गौतम, सोनू गौतम, लखपति सतीश गौतम, प्रदीप गौतम, दिनेश गौतम, हरिनन्दन सिंह गौतम, आनन्द, प्रदीप कुमार, गया प्रसाद, सम्बारी, रामनरेश, रामवती, मनीष, मुन्नी देवी, सन्तराम, महेश प्रसाद, रमेश चन्द, शान्ति देवी, मो0 हनीफ, बालकराम, पराग, रमेश चन्द्र गौतम, लक्ष्मीनरायन, नरेन्द्र कुमार, जसकरन, रामप्रकाश, कैलाश, शत्रोहन, सोमवारी, अम्बर प्रसाद, अजीत कुमार, इन्दे्रश कुमार, अभिषेक कुमार, विनोद कुमार, मायाराम

0 Response to "अपनी मांगों को लेकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को दिया ज्ञापन"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4