-->
जिलाधिकारी द्वारा किया गया पोषाहार वितरण का शुभारम्भ

जिलाधिकारी द्वारा किया गया पोषाहार वितरण का शुभारम्भ


  ज़िला ब्यूरो तनवीर खान


   उन्नाव। जिलाधिकारी श्री रवीन्द्र कुमार द्वारा विकास खण्ड सिरोसी के ग्राम पंचायत रऊकरना में शासन द्वारा प्रारम्भ की गई पोषाहार वितरण व्यवस्था के तहत स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार ड्राई राशन का वितरण आ0बा0 के लाभार्थियों को इसका शुभारम्भ किया गया। नई पोषाहार व्यवस्था के तहत आ0बा0 के लाभार्थियों यथा गर्भवती/धात्री, 06 माह से 03 वर्ष, 03 वर्ष से 06 वर्ष एवं स्कूल न जाने वाली किशोरियों को प्रतिमाह स्वयं सहायता समूह के माध्यम से दाल, चावल, गेंहू एवं त्रैमास पी0सी0डी0एफ0 द्वारा उपलब्ध कराये गये घी/दूध का वितरण किया जायेगा।


 
   इस क्रम में जिला कार्यक्रम अधिकारी उन्नाव दुर्गेश प्रताप सिंह द्वारा अवगत कराया गया कि नई व्यवस्था के तहत स्वंय सहायता समूह द्वारा कोटेदार से राशन का उठान कर पैकेजिंग की जायेगी तत्पश्चात राशन वितरण आ0बा0 केन्द्रों पर किया जायेगा। उन्होंने बताया कि लाभार्थियों के समूह में अनाज (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु 06 माह से 03 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को चावल-1.0 कि0ग्रा0गेहूं-1.5 कि0ग्रा0, दालें (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु 0.75 कि0ग्रा0, दुग्ध उत्पाद (त्रैमासिक पात्रता एंव आपूर्ति) हेतु  देसी घी-450 ग्राम स्किम्ड दूध-400 ग्राम, 03 वर्ष से 06 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को चावल-1.0 कि0ग्रा0 गेहूं-1.5 कि0ग्रा0 दालें (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) 0.75 कि0ग्रा0 दुग्ध उत्पाद (त्रैमासिक पात्रता एंव आपूर्ति) हेतु स्किम्ड दूध-400 ग्राम, गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाएं एवं स्कूल से बाहर किशोरियां (11 वर्ष से 14  वर्ष) के लिये अनाज (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु चावल-1.0 कि0ग्रा0, गेहूं-2.0 कि0ग्रा0 दालें (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु 0.75 कि0ग्रा0, दुग्ध उत्पाद (त्रैमासिक पात्रता एंव आपूर्ति) हेतु देसी घी-450 ग्राम, स्किम्ड दूध-750 ग्राम गम्भीर रूप से कुपोषित बच्चे (06 माह से 06 वर्ष) के लिये अनाज (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु चावल-1.5 कि0ग्रा0, गेहूं-2.5 कि0ग्रा0 दालें (मासिक पात्रता एवं आपूर्ति) हेतु 0.5 कि0ग्रा0 दुग्ध उत्पाद (त्रैमासिक पात्रता एंव आपूर्ति) हेतु देसी घी-900 ग्राम,स्किम्ड दूध-750 ग्राम दिया जायेंगा।


    जिलाधिकारी द्वारा कहा गया कि इस व्यवस्था का क्रियान्वयन पूरी ईमानदारी सतर्कता एवं जागरूकता से किया जाय। जिससे अधिक से अधिक लाभार्थियों को शासन की मंशानुरूप योजना का लाभ मिल सके। इसके साथ ही यह भी कहा गया कि इस व्यवस्था में यदि कुछ नया प्रयोग करते हैं, तो उससे भी अवगत करायें ताकि शासन को इस सन्दर्भ में प्रस्ताव भेजा जा सके। कुपोषण एक गंभीर समस्या है जिसके लिए बच्चे एवं मां का स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है। शासन द्वारा पूर्व में प्रचलित पोषाहार को समाप्त कर नई व्यवस्था प्रारम्भ की गयी है, ताकि माँ एवं बच्चे दोनो स्वस्थ्य एंव पोषित रहें।



    इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा बाल विकास परियोजना सि0सिरोसी के अन्तर्गत संचालित आ0बा0 केन्द्र रऊकरना प्रथम की श्रीमती नीलम पत्नी विनोद (धात्री) 02 माह, श्रीमती किरन पत्नी रमाशंकर (धात्री) 03 माह, श्रीमती पूजा पत्नी बलराम (धात्री) 1 माह, 07 माह से 03 वर्ष शनि, पंकज, गीता, 03 वर्ष से 06 वर्ष वैशाली, अमरपाल, खुशी, सन्तोष एवं रऊकरना द्वितीय के 03 वर्ष से 06 वर्ष के याश्मीन पुत्र बब्बर, सिमरन पुत्र सन्तोष, गर्भवती/धात्री श्रीमती विनीता पत्नी आनंद 06 माह, श्रीमती शशि पत्नी दिलीप 09 माह, आ0बा0 केन्द्र रऊकरना तृतीय के अन्तर्गत श्रीमती राजकुमारी पत्नी अरविन्द 04 माह (गर्भवती), श्रीमती आरती पत्नी कमलवर्धन 4 माह (गर्भवती), श्रीमती पूनम पत्नी गोविन्द 05 माह (गर्भवती), श्रीमती नीलम पत्नी दीपू 03 माह (गर्भवती), 03 माह से 06 वर्ष प्रान्शी पुत्री अमित, प्रांशू पुत्र अमित को ड्राईराशन का अपने समक्ष वितरण कराया गया।


0 Response to "जिलाधिकारी द्वारा किया गया पोषाहार वितरण का शुभारम्भ"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4