-->
ब्लॉक अधिकारी ग्राम प्रधान व सेक्रेटरी मिलकर ग्राम पंचायतों का डकार गए सारा पैसा

ब्लॉक अधिकारी ग्राम प्रधान व सेक्रेटरी मिलकर ग्राम पंचायतों का डकार गए सारा पैसा


धरातल पर नहीं हुआ विकास कार्य कागजों में दिखा दिया खानापूर्ति


  ब्यूरो चीफ़ अंकुल गिरी


   जनपद लखीमपुर खीरी क्षेत्र पलियाकलां जहां सरकार के द्वारा ग्राम पंचायतों में समुचित विकास के लिए लाखों रुपए का धन आवंटित करती है इसके बावजूद प्रधान व सेक्रेटरी की मिलीभगत के चलते सरकार की योजनाएं धरातल पर नहीं उतर पा रही हैं जिससे सरकार  के पैसों का चूना लगाया जा रहा हैं. वही आपको बताते चलें यह मामला पलिया ब्लाक के रिक्खी ग्राम सभा कृष्णा नगर का है जहां योगी सरकार के आते ही लोगों ने विकास कार्यों के लिए तमाम सपने देखे थे और धरातल पर पड़ी कृष्णा नगर की दर्जनों रोड़े। जिसमें सबसे मुख्य रोड़ गुरुकुल स्कूल के बगल में पड़ी हुई सड़क है जिसको योगी सरकार आते ही पास कर दिया गया था लेकिन ब्लाक के तानाशाही और पंचायत सेक्रेटरी व प्रधान के खाऊ कमाऊ नियत के कारण जर्जर हालत में आज भी जस के तस पड़ी हुई है. जिसमें सबसे ज्यादा अगर छवि धूमिल हो रही है तो वह योगी सरकार की क्योंकि योगी सरकार को लगभग चार वर्ष होने को है लेकिन रोड़ अभी तक नहीं बन पाई है हालात अगर ऐसे ही रहे तो आगे प्रतिनिधियों को काफी विरोध का सामना करना पड़ा सकता है. वही निवासियों का कहना है कि जब से योगी सरकार आई है.


   अधिकारी बेलगाम हो चुके हैं चाहे वह ब्लॉक के मुख्य अधिकारी हो या पंचायत सेक्रेटरी व प्रधान हो सभी लोग मिल बैठकर गांव के विकास को दरकिनार करते हुए जमकर बंदरबांट करने में मशहूर हैं यही कारण है कि सरकार की जितनी भी योजनाएं हैं धरातल पर लोगों के पास पहुंच पा रही हैं या नहीं यह भी देखने वाला कोई नहीं है यही जब अधिकारियों से फोन कर जानकारी ली जाती है तो फोन को नोट रिचुअल में डाल दिया जाता है अब इसी से संदेह भी जताया जा रहा है कि सरकार में बैठे अधिकारी कितना लोगों के लिए कार्य कर रहे हैं वही ग्राम पंचायत में विकास कार्य नहीं हो रहे हैं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायतों में आज भी शौचालय और आवास अधूरे पड़े हुए हैं और वही कुछ गांव के लोगों से ग्राम प्रधान ने कहा की अपने पास से शौचालय बनवा लो मैं पैसा दे दूंगा लेकिन वह बेचारे गरीब लोग अपने पास से शौचालय बनवा लिया अब प्रधान से कहते हैं तो प्रधान कहता है मैं क्या करूं हमें सरकार ने पैसा दिया ही नहीं सूत्रों से मिली जानकारीके अनुसार  लोगों ने कई प्रार्थना पत्र जिला अधिकारी महोदय व राज पंचायत अधिकारी को भी दिया लेकिन झूठी रिपोर्ट लगाकर मामले को दबा दिया जाता है यही कारण है कि अधिकारी व कर्मचारी कोई जांच के लिए नहीं पहुंचाता शौचालयों का पैसा निकाल कर धन का बंदरबांट किया गया है ग्राम पंचायतों मैं यदि शौचालय का वास्तविक निरीक्षण किया जाए तो शायद कुछ  शौचालय बंद पड़े तो कुछ भ्रष्टाचार  की भेंट चढ़ गए हैं कई बार गांव के लोगों ने पलिया ब्लॉक के विकास खंड अधिकारी को अवगत भी कराया गया लेकिन विकास खंड अधिकारी के कानों के ऊपर जू तक नहीं रेंगी जो सरकार ने पैसा इन ग्राम सभाओं में खर्च करने को प्रधानों को देते हैं  उस पर प्रधान  सेक्रेटरी विकास खंड अधिकारी यह सब मिलकर डकार जाते हैं ग्राम वासियों का कहना है कि हमारी अब सुनी नहीं जाएगी तो हम योगी तक जाएंगे हम लोग काफी परेशान हैं कुछ अधिकारियों की शिकारयत सीधा उत्तर प्रदेश के मुखिया जी से की जाएगी।


0 Response to "ब्लॉक अधिकारी ग्राम प्रधान व सेक्रेटरी मिलकर ग्राम पंचायतों का डकार गए सारा पैसा"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4