-->
पराली के नाम पर किसानों का उत्पीड़न बर्दाश्त नही : भाकियू टिकैत

पराली के नाम पर किसानों का उत्पीड़न बर्दाश्त नही : भाकियू टिकैत

 

      ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

   बाराबंकी। भारतीय किसान यूनियन  टिकैत की मासिक बैठक जिला कार्यालय गोकुल नगर स्थित जिला कार्यालय पर जिलाध्यक्ष अनिल वर्मा की अध्यक्षता एवं जिला महामंत्री हौसिला प्रसाद के संचालन में सम्पन्न हुई।बैठक में पदाधिकारियो द्वारा जनपद में संचालित सभी धान क्रय केंद्रों द्वारा बरती जा रही शिथिलता पर आक्रोश व्यक्त किया गया और 2 दिसम्बर को आंदोलन की रणनीति तय की गई।

   आज की बैठक में पराली के नाम पर किसानों का हो रहा उत्पीड़न,ग्रामीण क्षेत्रो के सी एच सी और पी एच सी पर चिकित्सकों का रात्रि निवास न करना,बैंकों में किसान क्रेडिट कार्ड बनाने में हीला हवाली सहित तमाम मुद्दों पर चर्चा कर सम्बंधित ब्लॉक इकाइयों को स्थलीय/स्थानीय आंदोलन धरना प्रदर्शन की अनुमति जिला इकाई द्वारा दी गयी।

    बैठक को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष अनिल वर्मा ने कहा कि जनपद में धान खरीद के सरकारी दावे खोखले साबित हो रहे हैं,किसान अपना धान विचौलियों के हाथों औने पौने दामो पर बेचने को मजबूर है।इससे किसानों दर दर भटकना पड़ रहा है।किसानों के जनाक्रोश को देखते हुए 2 दिसम्बर को ट्रैक्टर ट्राली सहित किसान जनपद मुख्यालय पर डेरा डालेंगे।उन्होंने ये भी आह्वान किया कि सभी लोग खाने और बिस्तर सहित आये,लड़ाई आरपार की लड़ी जाएगी।

    प्रदेश उपाध्यक्ष राम किशोर पटेल ने कहा कि भाजपा सरकार में किसानों का शोषण चरम पर है,किसान दर दर ठोकरें खाने को मजबूर है।पराली के नाम पर लगातार किसानों का शोषण उत्पीड़न बढ़ रहा है।ये देश के अन्नदाता का अपमान है।इसके साथ ही आज की बैठक में छुट्टा जानवर,नहरों की सिल्ट सफाई,बैंक कर्मियों द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड में किसानों का मानसिक उत्पीड़न का मुद्दा प्रमुख रहा।इसी कड़ी में पूर्व में आये बनीकोडर ब्लॉक के प्रस्ताव पर चर्चा कर शान्ति भूषण सिंह को जिला उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया।

   आज की बैठक में  दिनेश कुमार,चौधरी प्रेम चन्द,लायकराम यादव,अनुपम वर्मा,मीडिया प्रभारी सतीश वर्मा "रिन्कू"राधे लाल,राम सेवक रावत,डॉ राम सजीवन वर्मा,रामानंद,गिरीश चन्द,प्रमोद कुमार,भगौती प्रसाद, राजेन्द्र प्रसाद,रणविजय सिंह,देवेन्द्र कुमार,बाबादीन,हरीराम पाल,संजय रस्तोगी,चन्द्रभाल,पवन वर्मा,दीपू वर्मा,ओम प्रकाश वर्मा,आदि मौजूद रहे।

0 Response to "पराली के नाम पर किसानों का उत्पीड़न बर्दाश्त नही : भाकियू टिकैत"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4