-->
इंदिरा गांधी की जयंती पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर दी श्रधांजलि

इंदिरा गांधी की जयंती पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर दी श्रधांजलि


    ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

     बाराबंकी। भारतरत्न पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री थी जिन्होने 1966 से 1977 और पुनः 1980 से 31 अक्टूबर 1984 को हुयी उनकी दुखद हत्या तक देश का नेतृृत्व किया उनके लिये देश और आवाम सर्वोपरि थे और आवाम के लिये इन्दिरा जी सर्वोपरि थी यही उनकी लोकतांत्रिक साख का पैमाना था लगातार दो सूखे पर काबू पाने के लिये इन्दिरा जी हरित क्रान्ति को बढावा दिया जिसके कारण 1967-68 और 1970-71 के बीच खाद्यान्न उत्पादन में 35 फीसदी की बृृद्धि हुयी और उनके प्रधानमंत्रित्व के अन्तिम वर्ष तक खाद्य भण्डार 30 करोड टन को पार कर गया और देश हरित क्रान्ति की सफलता के कारण अनाज के मामले में आत्मनिर्भर बन गया, बैंको का राष्ट्रीयकरण, एकाधिकार आयोग की स्थापना, पेटेंट अधिनियम पारित कराना तथा प्रिवीपर्स को समाप्त करके इन्दिरा जी ने खेतो और कारखानो दोनो जगहो से समान्तवाद का खात्मा करके देश के संसाधनो को लोगो के दरवाजे तक पहुँचाकर इन्दिरा जी ने भारत की जनता को देश की सम्पत्ति का असली मालिक बनाया। आज उनकी जयन्ती के अवसर पर हम कांग्रेस परिवार के साथ उनके चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित करके उन्हे नमन करते है।

   उक्त उद््गार जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मो0 मोहसिन ने देश की पहली महिला प्रधानमंत्री भारतरत्न श्रीमती इन्दिरा गांधी की जयन्ती के अवसर पर कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में उनके चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित करने के पश्चात्् आयोजित गोष्ठी में व्यक्त किये जिसका संचालन कांग्रेस सचिव संजीव मिश्रा ने किया।

    कांग्रेस अध्यक्ष मो0 मोहसिन ने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी के संघर्ष और योगदान उनकी राजनैतिक, आर्थिक, विदेश नीति पर चर्चा करते हुये कहा कि इन्दिरा जी हमेशा लोकतंत्र में विश्वास करती थी और चाहती थी कि अन्तिम फैसला जनता करे 1977 के जनादेश का उन्होने विना किसी हिचकिचाहट के गरमापूर्ण ढंग से स्वीकार करके इस्तीफा दिया। हार के कुछ महिनो बाद ही वह बिहार के बेलद््दी गांव में दलितो पर हुये अत्याचार से उन्हे राहत दिलाने वो हाथी पर सवार होकर नदी पार करके पहुँची क्योकि वह जानती थी कि 1977 में जिन लोगो ने उनका साथ छोडा है वह फिर उनके पास वापस आयेगे और इसी भरोसे पर 1979 के अन्त के हुये चुनाव में उन्होने अभूतपूर्व सफलता अर्जित की।
      
   कांग्रेस कार्यालय पर इन्दिरा जयन्ती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को मुख्यरूप से उपाध्यक्ष प्रवक्ता सरजू शर्मा गौरी यादव, राजेन्द्र वर्मा फोटोवाला, के0सी0 श्रीवास्तव, रामहरख रावत, नेकचन्द्र त्रिपाठी, सिकन्दर अब्बास रिजवी, शबनम वारिस, प्रशान्त सिंह, अजीत वर्मा, अजय रावत, अरशद इकबाल, सत्यवान रावत, अम्बरीश रावत आदि कांग्रेसजनो ने विचार व्यक्त किये तथा मो0 आरिफ, श्रीमती तारा रावत, मुईनुद््दीन अंसारी, श्रीकान्त मिश्रा, परदेशी गौतम, रवि यादव, संतोष रावत, मो0 शुऐब, श्रीमती फरजाना, शुभम मिश्रा सहित दर्जनो की संख्या में कांग्रेसजन मौजूद थे।

0 Response to "इंदिरा गांधी की जयंती पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर दी श्रधांजलि"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4