-->

ad

 राष्ट्रीय हरित अधिकरण के आदेश से फसल अवशेष जलाना दंडनीय अपराध है

 राष्ट्रीय हरित अधिकरण के आदेश से फसल अवशेष जलाना दंडनीय अपराध है


ज़िला ब्यूरो तनवीर खान


   उन्नाव। रवीन्द्र कुमार जिलाधिकारी के निर्देश पर किसानो को जागरूक करने के लिए व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार किया जा रहा है। वर्ष 2019 20 में 26 ग्राम पंचायत में 54 फसल अवशेष जलाने की घटनाएं संज्ञान में आई थी। इन सभी ग्राम में ग्राम पंचायत स्तरीय गोष्ठी का आयोजन किया गया है। 


      जनपद स्तर ब्लॉक स्तर पर भी जागरूकता गोष्ठी आयोजित की गई है। डुग्गी पिटवा कर एवं प्रचार प्रसार वाहन से किसानो को सूचित किया जा रहा है कि फसल अवशेष न जलाएं नहीं तो जुर्माना एफआईआर होगी अन्य योजनाओं के लाभ से भी वंचित होना पड़ सकता है। जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि किसान गौशाला को फसल अवशेष दान करें l उप कृषि निदेशक ने आज क्षेत्र में भ्रमण किया गंज मुरादाबाद ब्लॉक के ग्राम गंभीर पुर में किसानों को गोष्ठी में प्रेरित किया और तीन ट्राली फसल अवशेष गोसा कुतुब गौशाला को दान स्वरूप पहुंचाया गया। देखते ही देखते गाय चारे पर टूट पड़ी। यह बहुत सराहनीय प्रयास किया गया। आज जनपद में अलग अलग गौशालाओं में 11 ट्राली 154 कुंटल  फसल अवशेष किसानों को प्रेरित कर पहुंचाया गया।  उप कृषि निदेशक ने बताया कि यह अभियान निरन्तर रबी फसल की बुआई तक चलेगा।


  जनपद के किसानो से अपील की कि किसी भी दशा में फसल अवशेष में आग न लगाएं। सैटेलाइट से भी 24 घण्टे निगरानी की जा रही है।


0 Response to " राष्ट्रीय हरित अधिकरण के आदेश से फसल अवशेष जलाना दंडनीय अपराध है"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4