-->

ad

बाप ने चन्द रुपयों के लालच में अपनी ही बेटी को किया बदनाम,रचा ये षड्यंत्र

बाप ने चन्द रुपयों के लालच में अपनी ही बेटी को किया बदनाम,रचा ये षड्यंत्र

सत्य स्वरूप ब्यूरो


   लखनऊ। थाना हुसैनगंज अंतर्गत छितवापुर चौकी का एक मामला सामने आया है जिसमे जितेंद्र कुमार सिन्हा ने अपने पुत्रि को ही बदनाम कर दिया वो भी सिर्फ कुछ पैसो के लिए। पूरा मामला यह है कि छवि सिन्हा (बदला हुआ नाम) जो कि जितेंद्र कुमार सिन्हा की पुत्रि है, जिनका काफी समय से विशाल प्रकाश सिंह से प्रेम प्रसंग चल रहा था, चुकि विशाल प्रकाश एक प्रतिष्ठित परिवार के थे जिस वजह से जितेंद्र कुमार सिन्हा और उनकी पुत्री की काफी समय से नजर विशाल प्रकाश की पैसो और प्रॉपर्टी पर थी, क्योकि जितेंद्र कुमार सिन्हा का रिकॉर्ड वैसे भी अच्छा नही था, क्योंकि करीब 25 सालो से ये किसी के घर मे जबरन कब्जा करके रहते आये है और इनकी आर्थिक स्थिति भी बहुत खराब थी, और ये शराबी इंसान थे।


  इन्ही सब बातों को देखते हुए विशाल प्रकाश सिंह के घर वाले जितेंद्र कुमार सिन्हा और उनकी पुत्री को पसंद नही करते थे, किन्तु लड़के के प्रेम में विवश होकर न चाहते हुए भी 15 दिसंबर 2018 को विशाल प्रकाश सिंह और  छवि सिन्हा का विवाह हो गया, कुछ दिन तो ठीक था विशाल प्रकाश बजाज एलायन्श में सर्विस करते थे, लेकिन विवाह के कुछ दिनों के बाद ही जितेंद्र कुमार सिन्हा और उनकी पुत्रि  विशाल प्रकाश को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने लगे, क्योकि विशाल प्रकाश के ससुर और पत्नि उनपर ये दबाव बनाने लगे कि अपने पिता से अपने हिस्से का सब कुछ अपने नाम करवालो जिसपर विशाल प्रकाश बिल्कुल भी तैयार नही था।


  इसी बात को लेकर शादी के बाद से विशाल प्रकाश सिंह मानसिक प्रताड़नाओं के चलते बहुत बीमार होता चला जा रहा था उसने अपनी नौकरी भी छोड़ दी थी, और अंत मे विगत 3 अगस्त 2020 को विशाल प्रकाश का निधन हो गया, अचानक विशाल प्रकाश के निधन से उनकी पत्नि ने सभी से ऐसा बर्ताव किया कि मानो विशाल प्रकाश जीवित हो किन्तु सभी ने सोचा पति की मौत से पत्नि को सदमा लग गया जिसके चलते लड़की के पिता ने कहा अभी कुछ महीनों के लिए मैं अपनी बेटी को अपने घर ले जाना चाहता हूँ ताकि वो इस सदमे से बाहर आ जाये जिसपर विशाल प्रकाश सिंह के परिवार ने भी सहमति जतायी।


  इसके बाद विशाल प्रकाश के घरवालों ने जितेंद्र कुमार सिन्हा को कई बार फ़ोन करके लड़की को घर पहुंचाने की बात कही पर वो लगातार यही कहे कर मना करते रहे कि अभी मेरी बेटी सदमे से बाहर नही आ पायी है और एक भी बार अपनी बेटी से बात तक नही करवायी। लेकिन विशाल प्रकाश सिंह के घरवाले जितेंद्र कुमार सिन्हा के बुरे इरादों से अनजान थे उन्हें इस बात की भनक भी नही थी कि इन दिनों में जितेन्द्र कुमार ने एक ऐसा षड्यंत्र रचा है उनके पैसो और प्रॉपर्टी को हड़पने का जिसे जानकर विशाल प्रकाश के घरवालों के पैरों तले जमीन चली गयी।


  अचानक जितेन्द्र कुमार सिन्हा और उनकी पुत्रि दिनांक 11 अक्टूबर 2020 को महिला थाने में एक तहरीर लेकर पहुंचे जिसमे ये कहा गया कि छवि सिंह (बदला हुआ नाम) ने विशाल प्रकाश के बड़े भाई के ऊपर विशाल प्रकाश की मौत के एक हफ्ते बाद ही अपने साथ जबरदस्ती का आरोप लगाया जबकि विशाल प्रकाश सिंह की मौत के बाद से वो लगातार अपने पिता के घर पर है, और अगर विशाल प्रकाश के बड़े भाई ने ऐसा किया तो इसकी शिकायत इतने महीनों बाद क्यों करी। जिससे साफ साफ देखा जा सकता है कि इस मामले में जितेन्द्र कुमार सिन्हा ने अपनी पुत्रि के साथ मिलकर जबरन विशाल प्रकाश के परिवार वालो से पैसे ऐंठने के इरादे से ये झूठी कहानी बनायी क्योकि वो जनता था कि विशाल प्रकाश सिंह का परिवार एक प्रतिष्ठित इज्जतदार परिवार है इसलिए अपनी बदनामी से बचने के लिए वो इसकी हर नाजायज मांग पूरा करेंगे जबकि ऐसा नही हुआ क्योकि झूठ की उम्र बहुत कम होती है। अफसोस इस बात का है कि कितना बेगैरत वो बाप है जो अपनी बेटी की इज्जत की परवाह किये बिना चन्द पैसो के लिए एक आपराधिक षड्यंत्र रच डाला, ऐसे बेगैरत लोगो के खिलाफ कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए और ऐसे इंसान को सजा मिलनी चाहिए ताकि दोबारा कोई ऐसा घिनौना काम करने से पहले हज़ार बार सोचे।


0 Response to "बाप ने चन्द रुपयों के लालच में अपनी ही बेटी को किया बदनाम,रचा ये षड्यंत्र"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4